सफलता क्या है '''

 फलता क्या है 
हममें से हर किसी की सफलता की एक निजी परिभाषा होती है पृथ्वी पर लगभग 95% लोग गरीब है उनमें से ज्यादातर बहुत ही गरीब है 
                               जब हम किसी एक दिसा में कार्य करते या बढ़ते जो हम प्राप्त करना चाहते हैं , विशेषकर जब वह कुछ हमें मानवीय अवतार में सम्मान और गरिमा दिलाने वाला हो तो हम सफल हो रहे हैं, प्रतिभा, बुद्धमाता। , आयु, लिंग, मूलस्थान या जन्म से कोए लेना देना नहीं है |    
         
success


 सफलता का अर्थ: - 
सफलता एक यात्रा है मंजिल नहीं है सफलता एक प्रक्रिया है, सिथति नहीं, आप सफलता पर कोई पहुंच नहीं सकता है, जैसे अपने अंदर झांकना अपने मुल्यु पर विचार करना और आपके लिए सवर्णीय स्वभाव जीवन पथ पर आगे बढ़ना इसमे शामिल है।  
सफलता का तत्व: - 
(1) आत्म जागरूकता 
(२) आत्मा की दिशा 
(३) प्राण प्रतिष्ठा 
(४) आत्मीयता 
 आत्म जागरूकता: - 
अपने निजी मूल्यों, कौशलो और रुचियों की पहचान और उनके महत्व को ही आत्म जगरूकता है, सफल लोग अपने अंदर आत्मविश्वास जगाने और अपने सपनों का पीछा करने का साहस जुठने के लिए आत्मा जागरूकता जरूरी है।
आत्मा की दिशा: - 
एक ऋषिचत लक्ष्य तय करने और उस दिशा में आजे बढने की क्षमता को आत्मा दिशा कहती है आत्मा दिशा का मतलब है सशिचत लक्ष्य तय करना और एक ही दिशा में आगे बढना। 
आत्मा प्रतिष्ठा: -                                                                                                                                          आत्मा प्रतिष्ठा के लोग सपने और लक्ष्यों की दिशा में आगे बढ़ते हैं और तबतक चलते रहने में मदद मिल्ली है |
आत्मा: - 
सफलता यूँ ही नहीं मिलती इसके लिए हमें निरंतर प्रयास करते रहना होता है, सफल लोग अनपे जीवन की जिम्मेदारी लेते हैं, और कोए गलती होने पर वे जेम्म सूची लेते हैं और सही होने पर उन्हें श्रेय भी लेते हैं, समय के साथ लगता है कि सुधार है। और। आभार से आदते बदल जाती है, जिसके लिए आत्महत्या पर केंदित रहना होता है 
आत्म जुड़ाव: - 
अनिश्चित होने के लेए बने रहते के लिए सफल लोग अपने लिए चुनौतीपूर्ण और सेफक तरह के लक्ष्य तय करते है, वे उन लक्ष्यों को समझते हैं और वे अपनी जरूरते और इच्छाए समझते हैं और अनपे भी के बावजूद खुद को मनचही दिशा में आगे बढ़ने में सक्षम हैं होते हैं। है |  
https://www.youtube.com/channel/UCB-fbUMME5mDLH_yHhPF0zw?view_as=subscriber